अल्जाइमर रोगियों के इलाज के लिए FDA ने नई दवा को दी मंजूरी, लाखों लोगों को मिलेगा फायदा


नई दिल्ली: दुनिया भर के कई देशों में कोरोना कहर के बीच अमेरिका से राहत की खबर है. अल्जाइमर रोग (Alzheimer’s Disease) के इलाज के लिए बायोजेन (Biogen) द्वारा तैयार की गई दवा एडुहेल्म (Aduhelm) को अमेरिकी दवा नियामक फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (Food And Drug Administration) ने मंजूरी दे दी है. एडुहेल्म को मंजूरी मिलने के बाद उम्मीद जगी है कि हजारों लोग इससे फायदा उठा सकेंगे.

एडुहेल्म को मंजूरी मिलने के बाद यह अमेरिकी नियामकों द्वारा स्वीकृत लगभग दो दशकों में इस बीमारी के लिए पहली नई दवा है, जबकि 2003 के बाद से अल्जाइमर के लिए स्वीकृत पहला नया उपचार है. एफडीए ने कहा कि 3,482 रोगियों का प्रतिनिधित्व करने वाले तीन अलग-अलग अध्ययनों में एडुहेल्म के प्रभाव के मूल्यांकन के आधार पर इसे मंजूरी दी गई है. 

क्या है अल्जाइमर रोग
याहू न्‍यूज की एक रिपोर्ट के मुताबिक अल्जाइमर पहली बार 115 साल पहले एक जर्मन मनोचिकित्सक एलोइस अल्जाइमर द्वारा पहचाना गया था. यह रोग एक अपरिवर्तनीय, प्रगतिशील मस्तिष्क विकार है, जो धीरे-धीरे याददाश्‍त और सोचने की क्षमता को नष्ट कर देता है, जबकि अल्जाइमर रोग के खास कारण पूरी तरह से ज्ञात नहीं हैं.

इस उम्र के लोगों के लिए घातक
अल्जाइमर रोग के बारे में ये भी कहा जाता है कि यह मनोभ्रंश का सबसे आम रूप है, जो दुनिया भर में 50 मिलियन लोगों को प्रभावित करता है और आमतौर पर 65 वर्ष से अधिक उम्र में शुरू होता है.  यह धीरे-धीरे मस्तिष्क के ऊतकों को नष्ट कर देता है, लोगों से उनकी याददाश्त चुरा लेता है, जिससे वे भ्रमित हो जाते हैं और कभी-कभी रोजमर्रा के कार्य करने में असमर्थ हो जाते हैं. 

एफडीए के सेंटर फॉर ड्रग इवैल्यूएशन के निदेशक डॉ. पैट्रीजिया कैवाजोनी ने कहा, “इस पर काफी सार्वजनिक बहस हुई है कि क्या एडुहेल्म को मंजूरी दी जानी चाहिए. जैसा कि अक्सर वैज्ञानिक डेटा की व्याख्या करने के मामले में होता है. डॉ. पैट्रीजिया कैवाजोनी ने कहा कि “अल्जाइमर रोग एक विनाशकारी बीमारी है, जो बीमारी से पीड़ित लोगों के साथ-साथ उनके प्रियजनों के जीवन पर गहरा प्रभाव डाल सकती है. एफडीए एडुहेल्म की निगरानी करना जारी रखेगा, क्योंकि यह बाजार और अंततः रोगी के बिस्तर तक पहुंचता है.”

ये भी पढ़ें; कमजोर याददाश्त और आंखों से धुंधला दिखे तो सावधान हो जाएं, ब्रेन ट्यूमर का खतरा हो सकता है





Source by [author_name]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *