भारत के बाद इस शक्तिशाली देश को भी हिला सकता है कोरोना का ‘डेल्टा’, अमेरिका को भी हुई टेंशन


भारत में कोरोना की दूसरी लहर के पीछे कोविड-19 का ‘डेल्टा वैरिएंट’ सबसे बड़ी वजह था. यह वैरिएंट बाकी वैरिएंट से ज्यादा खतरनाक और तेजी से फैलने वाला है. जिसे डब्ल्यूएचओ भी ‘वैरिएंट ऑफ कंसर्न’ मान चुका है. लेकिन अब खबर यह है कि भारत के बाद यह एक और शक्तिशाली देश की हालत खराब कर सकता है और इस बात से अमेरिका को भी चिंता सताने लगी है. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की सरकार में इंफेक्शियस डिजीज एक्सपर्ट के पद पर तैनात एंथनी फौसी ने बताया कि डेल्टा वैरिएंट अब यूनाइटेड किंगडम में भी अपने पैर जमाता जा रहा है और मुख्य रूप से 12 से 20 साल की उम्र के लोगों को अपना शिकार बना रहा है.

ये भी पढ़ें: कोविड ट्रीटमेंट में स्टेरॉयड असरदार, तो फिर बच्चों के लिए क्यों मना कर रही है सरकार? जानें यहां

60 प्रतिशत नये मामले डेल्टा वैरिएंट के
डॉ. फौसी ने एक प्रेसवार्ता में बताया कि, डेल्टा वैरिएंट यूके में खतरनाक रूप ले सकता है. क्योंकि आ रहे नये मामलों में 60 प्रतिशत मामले डेल्टा वैरिएंट (बी1.617.2) के देखने को मिल रहे हैं. जो कि यूके में पहले से फैले अल्फा वैरिएंट (बी.1.1.7) से ज्यादा है. उन्होंने आगे कहा कि, डेल्टा वैरिएंट बहुत तेजी से यूके में फैल रहा है, जिससे 12 से 20 साल के टीनएजर्स ज्यादा प्रभावित हो रहे हैं. पिछले हफ्ते ब्रिटेन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने भी बताया था कि कोविड-19 के कारण अस्पताल में भर्ती हो रहे लोगों में ज्यादातर डेल्टा वैरिएंट के मामले दिख रहे हैं. आपको बता दें कि डेल्टा वैरिएंट सबसे पहले भारत में दिखा था और देश में दूसरी लहर आने का प्रमुख कारण बना था.

ये भी पढ़ें: आपके बच्चे के दिमागी विकास को रोक सकता है कोरोना, आज से ही अपनाएं ये तरीके

अमेरिका भी हुआ परेशान
डॉ. फौसी ने यह भी कहा कि, यूके की तरह हम अमेरिका में इसको फैलने नहीं दे सकते हैं. उनके मुताबिक, यूनाइटेड स्टेट्स में कोरोना के नये मामलों में 6 प्रतिशत मामले डेल्टा वैरिएंट के हैं. हालांकि, असली आंकड़े ज्यादा हो सकते हैं, क्योंकि यह सिर्फ सैंपलिंग के आधार पर दर्ज किए गए हैं. वहीं, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने भी गुरुवार को ट्वीट करके नागरिकों से अपील की कि, काफी तेजी से फैलने वाला कोविड का डेल्टा वैरिएंट यूके में 12 से 20 साल की उम्र के लोगों को अपना शिकार बना रहा है. इसलिए, अगर आप ने अभी तक कोरोना वैक्सीन नहीं ली है, तो जल्दी ले लें. खुद को और अपने प्रियजनों को सुरक्षित करने का यह बेस्ट तरीका है. अमेरिकी सरकार ने 4 जुलाई तक 70 प्रतिशत अमेरिकियों को कम से कम कोविड वैक्सीन की एक डोज लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया है.





Source by [author_name]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *