IAS Success Story: डेंगू से पीड़ित नवजीवन ने ICU में भी जारी रखी परीक्षा की तैयारी, पहली बार में ही मिली सफलता


Success Story Of IAS Topper Nav Jeevan Pawar: यूपीएससी में सफल कैंडिडेट्स की कहानियां अक्सर आपने सुनी होंगी. सफलता की कहानियां लोगों को जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा देती हैं. साल 2018 में यूपीएससी परीक्षा पास कर आईएएस अफसर बनने वाले नवजीवन पवार ने सफलता की राह में आने वाली हर मुश्किल का डटकर सामना किया. उनके संघर्ष की कहानी लाखों लोगों के लिए प्रेरणादायक है.

नवजीवन पवार मूल रूप से महाराष्ट्र के रहने वाले हैं. उनका यूपीएससी का सफर बहुत लंबा नहीं रहा. पहले ही प्रयास में उन्हें सफलता भी मिल गई लेकिन इस छोटे सफर में उनके सामने कई चुनौतियां आईं. एक बार तो उनकी तबीयत खराब हो गई और उन्हें अस्पताल में भी भर्ती होना पड़ा, लेकिन उन्होंने अपनी तैयारी नहीं रोकी.

दिल्ली पहुंचकर की तैयारी
महाराष्ट्र के गांव में जन्में नवजीवन के पिता किसान थे. बचपन काफी परेशानियों में गुजरा लेकिन नवजीवन पढ़ाई में काफी होशियार थे, इसलिए उनके परिवार वालों ने यूपीएससी की तैयारी के लिए दिल्ली भेजने का फैसला किया. दिल्ली में कोचिंग के दौरान एक दिन उनकी तबीयत खराब हो गई. जब अस्पताल पहुंचे तो पता चला कि उन्हें डेंगू हो गया है. ऐसे में परिवार वालों ने उन्हें अपने पास बुला लिया. यहां नवजीवन को एक अस्पताल में भर्ती करा दिया.

यहां देखें नवजीवन का दिल्ली नॉलेज ट्रैक को दिया गया इंटरव्यू

 

 

अस्पताल में जारी रखी पढ़ाई
नवजीवन यूपीएससी की प्री-परीक्षा पास कर चुके थे. इसके बाद उन्हें डेंगू हुआ, मेंस की परीक्षा में महज एक महीना बाकी था. नवजीवन को अपनी तबीयत से ज्यादा यूपीएससी की परीक्षा की चिंता थी. यही वजह थी कि उन्होंने आईसीयू में ही पढ़ाई शुरू कर दी. लक्ष्य को पाने का ये जज्बा देश उनका इलाज करने वाले डॉक्टर भी हैरान रह गए. अस्पताल से वापस आने के बाद उन्होंने पूरी जान लगाकर तैयारी की. उनकी किस्मत ने भी साथ दिया और पहले ही प्रयास में वह सफल हो गए.

दूसरे कैंडिडेट्स को नवजीवन की सलाह
यूपीएससी की तैयारी करने वाले कैंडिडेट्स को नवजीवन लगातार मेहनत करने की सलाह देते हैं. उनका कहना है कि इस सफर में आपके सामने कई चुनौतियां आएंगी, जिससे आपको लड़कर जीतना है. कई लोग आपको डिमोटिवेट करने की कोशिश करेंगे लेकिन उन पर ध्यान न देकर आपको अपने लक्ष्य पर फोकस बनाए रखना है. वे कहते हैं कि अगर आपने यूपीएससी में आने का फैसला किया है तो अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए पूरी जान लगा दें. अगर आप सही रणनीति के साथ ईमानदारी से मेहनत करेंगे तो आपको सफलता जरूर मिलेगी.

यह भी पढ़ें :

IAS Success Story: कोचिंग नहीं सेल्फ स्टडी ने दिलाई आलोक को सफलता, दूसरे प्रयास में UPSC परीक्षा की पास

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI



Source by [author_name]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *