milk for diabetic: तीन तरीकों से करें दूध का सेवन, कंट्रोल में रहेगी डायबिटीज


milk for diabetic: मधुमेह (diabetes) एक ऐसी बीमारी है, जिसमें मरीज के डेली का आहार ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. डेली रूटीन की डाइट से ही रोगी का ब्लड शुगर लेवल कम-ज्यादा (low blood sugar level) होता है. अगर कोई एक बार डायबिटीज की चपेट में आ गया तो उसे लाइफटाइम तक अपने खान-पान खास ध्यान देना पड़ता है. डायबिटीज के मरीज़ों को खाने में ऐसी चीज़ों का सेवन करना जरूरी होता है, जिससे ब्लड में ग्लूकोज़ का स्तर ठीक रहे. ऐसे में दूध आपके काम आ सकता है. 

आयुर्वेद डॉ. अबरार मुल्तानी के अनुसार, नाश्ते में दूध का सेवन करने से टाइप 2 डायबिटीज (type 2 diabetes) के मरीजों को फायदा हो सकता है. दूध का सेवन करने से कार्बोहाइड्रेट के पाचन को धीमा करने और ब्लड शुगर कम करने में मदद मिलती है.  सुबह दूध पीने से ब्लड शुगर लेवल कम हो सकता है. इस खबर में हम मधुमेह के रोगियों के लिए आयुर्वेदिक डॉक्टर द्वारा सुझाए गए दूध का सेवन करने के ऐसे तीन तरीके बता रहे हैं, जिन्हें फॉलो कर आप इस बीमारी को कंट्रोल में रख सकेंगे. 

दूध का ऐसे करें सेवन (drink milk like this)

पहला तरीका
आयुर्वेद डॉ. अबरार मुल्तानी के अनुसार, हल्दी वाला दूध भी मधुमेह के रोगियों के लिए लाभकारी होता है. हल्दी में करक्यूमिन होता है, इसका सीमित सेवन डायबिटीज के मरीजों के लिए बेहतर है.

दूसरा तरीका
शुगर पेशेंट के लिए दालचीनी वाला दूध लाभदायक है, क्योंकि दालचीनी ब्लड शुगर को नियंत्रित करने का काम करती है. इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी इन्फलेमेटरी गुण मौजूद होते है, जिससे डायबिटीज को कंट्रोल करने में मदद मिलती है. दूध और दालचीनी के मिश्रण में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट्स ब्लड शुगर को कम करने में मददगार हैं और इससे इंफेक्शन का खतरा कम रहता है. 

तीसरा तरीका
अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं तो आपके लिए बादाम का दूध फायदेमंद हो सकता है. बादाम का दूध बाजार में आराम से मिलता है और आप इसे घर में भी बना सकते हैं. बादाम के दूध में कैलोरी की मात्रा कम और विटामिन डी, ई और जूरूरी पोष्क तत्व पाए जाते हैं. इसमें प्रोटीन और फाइबर भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो ब्लड में ग्लूकोज़ को जल्दी ऑब्जार्ब नहीं होने देता.

WATCH LIVE TV





Source by [author_name]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *