Skin Care news: गर्दन के कालेपन से छुटकारा दिलाएंगे यह घरेलू उपाय, जानें इस्तेमाल करने का तरीका


नई दिल्ली: अगर आप भी गर्दन के कालेपन से परेशान हैं तो ये खबर आपके काम आ सकती है. इस खबर में हम आपके लिए काली गर्दन से छुटाकारा दिलाने वाले घरेलू उपाय के बारे में बता रहे हैं, इस उपाय को नियमित फॉलो कर आप इस समस्या से निजात पा सकते हैं. 

दरअसल, ज्यादातर लोग अपनी त्वचा की साफ- सफाई पर ज्यादा ध्यान देते हैं, लेकिन गर्दन और कोहनियों की सफाई पर ध्यान नहीं देते हैं, जिसकी वजह से त्वचा के ये हिस्से काले नजर आते हैं. गर्दन के कालेपन से छुटकारा पाने के लिए लोग तरह – तरह के ब्यूटी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं, जो कुछ समय बाद असर दिखाना बंद कर देते हैं. 

1. बादाम के तेल का उपयोग
गर्दन के कालेपन को दूर करने के लिए आप बादाम के तेल की कुछ बूंदे लें और उसे अपनी गर्दन पर मालिश करें. तेल को शरीर में सोखने दें. बादाम के तेल में विटामिन ई और ब्लीचिंग एजेंट के गुण होते हैं. ये दोनों चीजें त्वचा की रंगत निखारने का काम करते हैं. 

2. एलोवेरा जेल का ऐसे करें उपयोग
एलोवेरा के पौधे गर्दन के कालेपन को दूर कर सकते हैं. एलोवेरा के पौधे में विटामिन्स और मिनरल्स होते हैं जो त्वचा में मेलेनिन के उत्पादन को कम करने में मदद करता है. सबसे पहले आप एलोवेरा जेल के पत्तों को काटकर जेल निकाल लें. इस जेल को अपनी गर्दन पर लगाएं और कुछ मिनटों के लिए स्क्रब करें. करीब आंधे घंटे तक जेल लगाएं रखें और बाद में पानी से धो लें.

3. दही का ऐसे करें उपयोग
काली गर्दन को फेयर करने के लिए आप दही का उपयोग कर सकते हैं. दही में नेचुरल एंजाइम होते हैं जो त्वचा की रंगत को हल्का करने में मदद करता है. इसके लिए आप दो बड़े चम्मच दही लें और इसे गर्दन पर लगाएं . दही को गर्दन पर 15 मिनट तक लगाएं रखें और फिर पानी से धो लें. ऐसा करने से भी गर्दन का कालापन दूर होता है.

4. आलू का ऐसे करें उपयोग
दरअसल, आलू में ब्लीचिंग गुण होते हैं, जो त्वचा की रंगत को निखारने में मदद करता है. इसके लिए आपको एक आलू को कद्दू कर जूस निकालना है. इस जूस को अपनी गर्दन पर लगाना है और करीब 15 मिनट के लिए उसे वैसा ही छोड़ दें. इसके बाद पानी से धो लें. 

ये भी पढ़ें; आंखों की रोशनी, मजबूत इम्युनिटी और ताकतवर शरीर के लिए बेहद जरूरी हैं ये 5 सस्ती सब्जियां, जानें गजब के फायदे!

नोट- खबर में दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं पर आधारित है. हम इसकी पुष्टि नहीं करते.





Source by [author_name]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *