World Brain Tumour Day 2021: कमजोर याददाश्त और आंखों से धुंधला दिखे तो सावधान हो जाएं, ब्रेन ट्यूमर का खतरा हो सकता है


नई दिल्ली। खराब जीवन शैली और उल्टे सीधे खानपान की वजह से किडनी, फेफड़े, हार्ट सबंधी कई रोगों का शिकार हो जाते हैं. उन्हीं में से एक है ब्रेन ट्यूमर. अगर आपकी याददाश्त कमजोर हो रही है और आंखों से धुंधला दिखाई दे रहा हो तो सावधान हो जाएं. यह ब्रेन ट्यूमर के संकेत हो सकते हैं. अगर समय से इलाज नहीं मिलता है तो यह घातक हो सकता है. 

क्या है ब्रेन ट्यूमर

वाराणसी में मौजूद संतुष्टि हॉस्पिटल की डायरेक्टर डॉ. रितु गर्ग ने बताया कि यह ट्यूमर मस्तिष्क की कोशिकाओं में होता है. जब ब्रेन में अनियंत्रित रूप में कोशिकाएं बढ़ने लगती हैं या फिर जमने लगती हैं तो ब्रेन ट्यूमर जानलेवा भी साबित हो सकता है. इसकी गिनती सबसे घातक बीमारियों होती है. ब्रेन ट्यूमर कई प्रकार के होते हैं. इसमें मस्तिष्क के खास हिस्से में कोशिकाओं का गुच्छा बन जाता है. यह कई बार कैंसर की गांठ में तब्दील हो जाता है.
 
विश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस का उद्देश्य
विश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस को मनाने के पीछे उद्देश्य है कि लोगों को ब्रेन ट्यूमर के बारे में जागरूक करना. चिकित्सा विशेषज्ञों का यह मानना है कि दुनियाभर में रोजाना एक लाख में से दस लोग ब्रेन ट्यूमर के कारण मरते हैं. 

इन लोगों को ज्यादा खतरा
डॉ. रितु गर्ग बताती हैं कि ब्रेन ट्यूमर की समस्या दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है. अधिक समय धूम्रपान (Smoking) करने वाले लोगों को ब्रेन ट्यूमर होने का अधिक खतरा रहता है. यही वजह है कि लोगों को इसके खतरों के प्रति आगाह किया जाता है. आज के दिन देश भर में कई तरह के कार्यक्रम आयोजित करके और रैलियां निकाल कर लोगों को ब्रेन ट्यूमर के बारे में जागरूकता किया जाता है.

ब्रेन ट्यूमर के लक्षण

  1. कई बार आंखों से धुंधला दिखाई देने लगता है. 
  2. यहां तक कि चीजों को देखने में भी दिक्‍कत महसूस होती है. 
  3. सुबह उठने पर सिर में तेज दर्द होता है. 
  4. अगर आपको इस तरह की समस्‍या हो तो डॉक्‍टर को जरूर दिखाएं. 
  5. बेहोशी का होना भी ब्रेन ट्यूमर होने का संकेत हो सकता है.
  6. घबराहट और उल्टी का होना भी ब्रेन ट्यूमर का लक्षण हो सकता है. 
  7. बोलने और सुनने में भी कठिनाई का अनुभव हो तो भी इसे नजरअंदाज न करें. 

विश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस का इतिहास
विश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस सबसे पहले साल 2000 में मनाया गया था. इसकी शुरुआत जर्मन ब्रेन ट्यूमर एसोसिएशन डॉयचे हिरनट्यूमरहिल्फ की ओर से की गई थी. इस संघ का गठन साल 1998 में हुआ था. इस संघ में 14 देशों के 500 से ज्यादा सदस्य शामिल हैं. इसी संघ ने आठ जून को ब्रेन ट्यूमर डे घोषित किया था, तब से हर साल इस बीमारी के प्रति जागरूकता के उद्देश्य से यह दिवस मनाया जाता है.

ये भी पढ़ें: beauty tips: दाग धब्बे हटाकर चेहरे को खूबसूरत बना देगा नींबू, बस इस तरह करें उपयोग





Source by [author_name]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *